JayLok New Pepar Jabalpur M.P.

Date : 14/11/19
Time : 04:11:20
  •  
  • जबलपुर
  • बालाघाट
  • सिवनी
  • मण्डला

Message

जयलोक: 24 साल के सफर से आगे..
25 वें वर्ष में जयलोक 
(अजित वर्मा)
आज 24  जनवरी है। 'जयलोकÓ परिवार के लिए यह यादगार दिन है। जयलोक के प्रकाशन के 24 वर्ष आज पूरे हुए। आज से 25 वें वर्ष की शुरुआत हो गई। यानी रजत जयंती वर्ष शुरू  हो गया। किसी दैनिक अखबार के लिए 25 वर्षों की यात्रा कोई बड़ी बात नहीं है। न ही निरन्तर प्रकाशन कोई असाधारण बात है। एक अखबार के सफर की दूरी में कोई मंजिल नहीं होती। तो, यह कहने का  भी अवसर नहीं होता कि 
राहों की मुश्किलों का तुझे क्या हिसाब दूं। 
मंजिल मिली तो पावों में छाले नहीं रहे! 
 हमें तो हर दिन मंजिल तय करना पड़ती है। अखबार समय पर पाठकों के हाथ पहुंच जाये तो मंजिल मिलने का संतोष हो जाता है।  यह संतोष तो हमें हर दिन मिलता है। 
आज अखबारों के लिए खासतौर पर लघु और मध्यम कहे जाने वाले अखबारों के लिए कठिनाई का दौर है। केन्द्र सरकार मुंह फेर रही है, बड़े अखबारों की गोद में बैठ चुकी है। केन्द्र और राज्य सरकारें और सत्तारूढ़ सरकारें पार्टियां अपने संसाधनों को बड़े कहे जाने वाले इलेक्ट्रॉनिक और प्रिण्ट मीडिया पर उड़ेल रही हैं। यह खतरनाक स्थिति है। लेकिन एक अखबार के रूप में हम इस पर कोई शिकायत  नहीं करना चाहते। अभी तो 49 प्र.श. प्रत्यक्ष विदेशी निवेश की अनुमति भी जारी होने वाली है। जाहिर है भूमण्डलीकरण के पंूजीवादी दौर में यह सब होना ही है क्योंकि सत्ता बड़े घरानों की है  और बड़ों के लिए ही है। इसका उद्देश्य ही विषमता की खाई को बढ़ाकर बड़ों की अट्टालिकाओं को जगमग करना है। यह सरकार यही करेगी। क्योंकि यह पूंजीवादी सरमायेदारों की सरकार है। बहरहाल, हम कह चुके हैं कि हमें सरकार से कोई शिकायत नहीं है। हम जानते हैं कि सब दिन होत न एक समाना। तो चुनौतियों का सामना हिम्मत और धीरज से करते रहना ही मकसद होना चाहिए। पिछले 24 वर्षों के सफर में जयलोक ने मिशन पत्रकारिता  के लिए स्वयं को प्रतिबद्ध और समर्पित रखा है। मुद्दों की पत्रकारिता के प्रति असंदिग्ध समर्पण रखा है। इस अवधि में जयलोक के प्रधान सम्पादक से लेकर सम्पादकों और स्थानीय सम्पादक तक को मिले पत्रकारिता पुरस्कारों की श्रंखला जयलोक परिवार की पत्रकारिता और  पत्रकारीय सरोकारों के प्रति समाज के चैतन्य समूहों के सम्मान को प्रदर्शित करती है, जिसके लिए हम विद्वज्जनों के कृतज्ञ हैं। 
पराम्बा भगवती राजराजेश्वरी और भगवती बगलामुखी हमारी आराध्या हैं वे हमें सही दिशा में चलने के लिए प्रेरित करती हैं। साध्य और साधन की पवित्रता के प्रति संकल्पबद्ध करती हैं। 
जयलोक अपने 25 वें वर्ष में कुछ न कुछ विशेष करते रहने का प्रयत्न करेगा। अपने सभी पाठकों, शुभैषियों और सहयोगियों  के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करते हुए हम भरोसा करते हैं उनका स्नेह सदैव  मिलता रहेगा। हम प्रतिबद्धता के साथ अपना दैनिक घोष दोहराते हैं- 
न्याय मिले प्रत्येक को, मिल अभय आलोक 
है वाणी स्वातंत्र्य हित संकल्पित जयलोक। 

 

जयलोक: 24 साल के सफर से आगे..
25 वें वर्ष में जयलोक 
(अजित वर्मा)
आज 24  जनवरी है। 'जयलोकÓ परिवार के लिए यह यादगार दिन है। जयलोक के प्रकाशन के 24 वर्ष आज पूरे हुए। आज से 25 वें वर्ष की शुरुआत हो गई। यानी रजत जयंती वर्ष शुरू  हो गया। किसी दैनिक अखबार के लिए 25 वर्षों की यात्रा कोई बड़ी बात नहीं है। न ही निरन्तर प्रकाशन कोई असाधारण बात है। एक अखबार के सफर की दूरी में कोई म........

Read More

विज्ञापन